ज़िन्दगी का रंग और स्वाद


ज़िन्दगी का रंग और स्वाद

क्यों किया बुरा और पाप आज
क्यों बोला झूठ आज
किसके लिए किया यह सब आज
क्या ली थी इज़ाज़त उनसे इसके लिए
चलो चिंतन करो इस पर आज
ज़िन्दगी का रंग और स्वाद बदलेगा आज..! 

कितना अच्छा कितना बुरा किया आज
कितना पुण्य कितना पाप किया आज
कितना सच कितना झूठ बोला आज
यदि चिंतन हो जाय इन पर आज
विश्वास रखो अपने आप पर आज
ज़िन्दगी का रंग और स्वाद बदलेगा आज..!

क्या करें, क्यों करें, किसको कितना करें
चलो थोड़ा चिंतन करो इस पर आज
यदि चिंतन से कुछ सूत्र मिला है तो
इस सूत्र पर मंथन करो आज
विश्वास रखो अपने आप पर आज
ज़िन्दगी का रंग और स्वाद बदलेगा आज..!

क्या किया है और क्या कर रहे हैं
चलो थोड़ा चिंतन करो इस पर आज
यदि कुछ समझ आया है चिंतन से तो
इस चिंतन पर मंथन करो आज
विश्वास रखो अपने आप पर आज
ज़िन्दगी का रंग और स्वाद बदलेगा आज..! 

लेखक एवं प्रस्तुति
सुभाष वर्मा
लेखक एवं पत्रकार
loktantralive@hotmail.com 
www.loktantralive.in


Comments

Popular posts from this blog

ज़िन्दगी का मतलब

कुछ नहीं हो सकता